Administrator's Message

जनपद के सबसे पुराने महाविद्यालय सकलडीहा पी०जी० कालेज, सकलडीहा चंदौली (उ०प्र०) के प्रशासक की भूमिका में रहकर मैं हर्ष का अनुभव करता हूँ | शैक्षणिक संस्थायें किसी भी राष्ट्र के निवासियों के मानसिक, नैतिक, चारित्रिक एवं सांस्कृतिक विकास की मेरुदण्ड होती है | अत: राष्ट्र की निरन्तर अबाध प्रगति हेतु इनका उत्तरोत्तर उत्थान आवश्यक है | महाविद्यालय प्रबन्ध समिति के प्रमुख के रूप में मैं महाविद्यालय के सम्मानित प्राचार्य, प्राध्यापकगण, शिक्षणेत्तर कर्मचारियों, छात्र-छात्राओं एवं क्षेत्र के नागरिकों को यह विश्वास दिलाना चाहता हूँ कि महाविद्यालय के समग्र विकास के प्रयास में कोई कोर- कसर नहीं रखी जाएगी | महाविद्यालय में नकल विहीन परीक्षा सम्पन्न कराने की एक गौरवशाली परम्परा रही है | जिसका आज भी बखूबी निर्वहन किया जा रहा है |

सत्र 2017-18 में महाविद्यालय मे स्ववित्तपोषित योजना के अन्तर्गत स्न्नातकोत्तर स्तर पर अंग्रेजी एवं समाजशास्त्र विषयो का शिक्षण प्रारम्भ हुआ तथा इग्नू (IGNOU) अध्ययन केन्द्र खोला गया | आने वाले वर्षो में स्नातक एवं स्नातकोत्तर स्तर पर अन्य विषयों एवं तकनीकी पाठ्यक्रमों में पठन-पाठन प्रारम्भ कराने का प्रयास किया जायेगा | महाविद्यालय में नेशनल कैडेट कोर(NCC) एवं राष्ट्रीय सेवा योजना(NSS) के पुनः संचालन हेतु प्राचार्य जी द्वारा सराहनीय प्रयास किया जा रहा है |

महाविद्यालय के NAAC से मूल्यांकन की प्रक्रिया चल रही है | इसके लिए मै महाविद्यालय परिवार को साधुवाद देता हूँ और पुनः यह विश्वास व्यक्त करता हूँ कि यह महाविद्यालय आने वाले वर्षो में पूर्वांचल में अपना एक प्रमुख स्थान बनाने में सफल होगा |

शुभकामनायें!

                                                हेमन्त कुमार
(जिलाधिकारी,चंदौली)
प्रशासक
सकलडीहा पी०जी० कालेज
                                                             सकलडीहा – चंदौली