महाविद्यालय - वन्दना

अन्नत आलोक विश्वमूर्ते,
                    सफल हमारी ये साधना हो।

न हो दीनता न हो पलायन,
                    स्वदेश सेवा की भावना हो।

हमारे जीवन के पथ दुर्गम,
                    बने हमारे विकास साधन।

ये आत्मबल हो हमारा सम्बल,
                    हमारे जीवन की प्रेरण हो।